Krishna Shayari | बेस्ट कृष्णा शायरी हिंदी में

krishna shayari | krishna janmashtami shayari | krishna shayari in hindi

बेस्ट कृष्ण शायरी

krishna shayari

ए जन्नत अपनी औकात में रहना..!!
हम तेरी जन्नत के मोहताज नही..!!
हम श्री बांकेबिहारी के चरणों में रहते है..!!
वहां तेरी भी कोई औकात नही।।..

आज गुलशन का नज़ारा नायाब होगा।।
सबके गुलाबसे प्यारा मेरा।।
गुलाबमेरा !कान्हा! होगा।।

बांके बिहारी का नाम लो सहारा मिलेगा..
ये जीवन न तुमको दुबारा मिलेगा..
डूब रही अगर कश्ती मझधार में..
कृष्णा के नाम से सहारा मिलेगा...!!

सुन्दर से भी अधिक सुंदर है तु..लोग तो पत्थर पूजते है..
मेरी तो पूजा है तु..पूछे जो मुझसे कौन है तु..??
हसकर कहता हु..जिंदगी हु मैं और सांस है तु।।..

जिस पर राधा को मान हैं..
जिस पर राधा को गुमान हैं...
यह वही कृष्ण हैं जो राधा..
के दिल हर जगह विराजमान हैं..!!

राधा के सच्चे प्रेम का यह ईनाम हैं..
कान्हा से पहले लोग लेते राधा का नाम हैं।।

रूप बड़ा प्यारा है..चेहरा बड़ा निराला है!!
बड़ी से बड़ी मुसीबत को मेरे कान्हा ने..
पल भर में हल कर डाला है..!!

जीवनरूपी नाव के हम है खिवैया।।
अगर मजधार में डूबने लगे आपकी नैया।।
तो डरना नहीं होसला रखना।।
पार कराएगा आपको कीशन कनैया..!!

बाजार के रंगो में रंगने की मुझे जरुरत नही..
मेरे कान्हा की याद आते ही..!!
ये चेहरा गुलाबी हो जाता है..।।

मंज़िले मुझे छोड़ गयी..रास्ते ने पाल लिया है!!
जा ज़िंदगी तेरी ज़रूरत नहीं..
मुझे ठाकुर ने संभाल लिया है!!

कन्हैया बस तेरी रहमत पर नाज करते है।।
इन आंखो को जब तेरा दीदार हो जाता है।।
मेरा तो हर दिन सांवरे त्योहार हो जाता है!!

बड़ा मीठा नशा है कृष्ण की याद का!!
वक्त गुजरात गया और हम आदि होते गए..!!

सुध बुध खो रही राधा रानी..
इंतजार अब सहा न जाए..
कोई कह दो सावरे से..
वो जल्दी राधा के पास आए.!!

सुनो कन्हैया जहाँ से तेरा मन करे।।
मेरी जिन्दगी को पड़ लो पन्ना चाहे..
कोईं भी खोलो हर पन्ने पर..
तेरा नाम होगा मेरे कान्हा।।

मोहब्बत कुछ अलग से है मेरी।।
तुमसे तुम ख्यालों में ही नहीं..
दुआओं में भी रहते हो..!!

अगर आप अपने लक्ष्‍य को प्राप्‍त करने में..
असफल हो जाते हैं।।
तो अपनी रणनीति बदलिए..न कि लक्ष्‍य।।..

बड़ा मीठा नशा है कृष्ण की याद का।।
वक्त गुजरात गया और हम आदि होते गए।।

रंग बदलती दूनिया देखी देखा जग व्यवहार!!
दिल टूटा तब मन को भाया ठाकुर तेरा दरबार..!!

पता नहीं कैसे परखता है..मेरा कृष्ण मुझे..
इम्तेहान भी मुश्किल ही लेता है..
और फेल भी होने नहीं देता..!!

अजीब नशा है, अजीब खुमारी है..हमे कोई रोग नहीं बस..!
जय श्री राधे कृष्णा, राधे कृष्णा बोलने बीमारी ह।।

हम भी तेरी मोहनी मूरत दिल में छिपाये बैठे है..!!
तेरी सुन्दर सी छवि आँखों में बसाये बैठे है..!!
इक बार बांसुरी की मधुर तान सुनादे कान्हा..!!
हम भी एक छोटी सी आस जगाये बैठे है..।।

दे के दर्शन कर दो पूरी प्रभु मेरे मन की तृष्णा..!!
कब तक तेरी राह निहारूं..अब तो आओ कृष्णा!!

एक बार राधा कहो..सो बार कृष्ण हो जाये!!
राधा राधा रट ते ही सब बाधा मिट जाए।।..

ऐसा कोई नहीं जिसने भी इस संसार मे 
अच्छा कर्म किया हो और..!!
उसका बुरा अंत हुआ हो..
चाहे इस काल में हो या आने वाले काल में..!!

तुम क्या मिले की साँवरे..मेरा मुकद्दर सवंर गया..
उजड़े हुए नसीब का गुलशन निखर गय!!!

कान्हा जी लो आज हम आपसे..
निकाह ए इश्क करते हैं!!
हाँ हमें आपसे मोहब्बत है..
मोहब्बत है..मोहब्बत है!!


दिल तुमसे लगा बैठे है।।
प्रेम की राह पर सपने सजाएं बैठे है।।
हर किसी ने तोड़े है सपने हमारे।।
एक तू ही है कन्हैया जिससे हर उम्मीद लगाए बैठे है..!!

हे बांके बिहारी नही रही कोई और..
हसरत इक तेरे दिदार के सिवa।।
गौ़रतलब ये है मेरे नूर-ऐ-हरि।।
अब हर तमन्ना ने मुझसे किनारा कर लिया।।..

पीर लिखो तो मीरा जैसी।।
मिलन लिखो कुछ राधा सा।।
दोनों ही है कुछ पूरे से।।
दोनों में ही वो कुछ आधा सा..!!

अधुरा हैं मेरा इश्क तेरे नाम के बिना।।
जैसे अधूरी हैं राधा श्याम के बिना।।

हारने न देना कान्हा मुश्किल इम्तिहान है।।
जीत में ही मोहन हम दोनों की शान है।।
क्यूंकि तेरे भरोसे हू मैं यही मेरी पहचान है..!!

अपने कर्म पर अपना दिल लगाएं..
 न की उसके फल पर..!!

जानते हो फिर भी अंजान बनते हों..!!
इस तरह क्यों हमें परेशान करते हों..!!
पुछते हो तुम्हें क्या क्या पंसद है..!!
जबाब खुद हो फिर भी सवाल करते हों..!!!

कर भरोसा राधे नाम का..धोखा कभी न खायेगा!!
हर मौके पर कृष्ण..तेरे घर सबसे पहले आयेगा!!

मुझको मालूम नहीं अगला जन्म है की नहीं।।
ये जन्म प्यार में गुजरेये दुआ मांगी है।।
और कुछ मुझे जमानेसे मिले या ना मिले।।
ए मेरे कान्हा तेरी मोहब्बत ही सदा मांगी है..!!

गज़ब के चोर हो कान्हा..चोरी भी करते हो..
और दिलो पर राज़ भी..!!

माखन चुराकर जिसने खाया।।..
बंसी बजाकर जिसने नचाया..!!
ख़ुशी मनाओ उनके जन्म दिन की..!!
जिन्होंने दुनिया को प्रेम का रास्ता दिखाया..।।

प्यार दो आत्माओं का मिलन होता हैं..
ठीक वैसे हीं जैसे प्यार में कृष्ण का नाम..
राधा और राधा का नाम कृष्ण होता हैं।।

इंसान का नसीब उतनी बार बदलता है।।
जितनी बार वो भगवन को याद करता है..!!

जो कोई भी जिस किसी भी देवता की पूजा..
विश्वास के साथ करने की इच्छा रखता है..
मैं उसका विश्वास उसी देवता में दृढ कर देता हू..!!

एक टिप्पणी भेजें

Please do not enter any spam link in the comment box.

और नया पुराने