Nafrat Shayari | नफरत शायरी SMS & Status

हो सकता है कि लोग इस बात पर सहमत न हों कि प्यार क्या है, लेकिन सभी इस बात से सहमत हो सकते हैं कि नफरत एक मजबूत भावना हो सकती है। कभी-कभी लोगों को किसी से इतनी नफरत हो जाती है कि वे सोचने लगते हैं कि यह व्यक्ति हमारे जीवन में क्यों आया? किसी से नफरत करना एक बहुत ही स्वाभाविक एहसास है और इसे शब्दों में बयां करना अक्सर हमारे लिए मुश्किल होता है इसलिए हम Nafrat Shayari (nafrat shayari in hindi, dard nafrat shayari, mohabbat nafrat shayari, nafrat shayari for boyfriend, khud se nafrat shayari, nafrat ki shayari, nafrat wali shayari, nafrat bhari shayari, nafrat shayari dp) का सहारा लेते हैं। हकीकत यह है कि कुछ लोग आपके लिए अच्छे नहीं होते और उन्हें आपका दिल तोड़ने में देर नहीं लगती। उन्होंने हमारे साथ जो किया उससे हम इतने आहत हुए होंगे कि हमने उनके प्रति यह घृणा विकसित कर ली है। इन भावनाओं को नफरत शायरी के माध्यम से व्यक्त करने का प्रयास करेंगे, हमें उम्मीद है कि आपको ये शायरी पसंद आएगी।


Nafrat Shayari

Nafrat Shayari

तेरी नफ़रत में वो दम नहीं, जो मेरी चाहत को मिटा दे ए सनम, ये मोहब्बत है कोई खेल नहीं, जो आज हंस के खेले और कल रोके भुला दें!!

Teri nafrat mein vo dam nahin, Jo meri Chahat ko Mita de a Sanam, Yah Mohabbat hai koi Khel nahin, Jo Aaj Hans ke khele aur cal roke bhula de!!

चाह कर भी मुंह फेर नहीं पा रहे हो, नफ़रत करते हो या इश्क़ निभा रहे हो!!

Chah kar bhi munh Fer nahin pa rahe ho, Nafrat karte ho ya Ishq nibha rahe ho!!

मोहब्ब्त है की नफ़रत है, कोइ इतना तो समझाए, कभी मैं दिल से लड़ती हूं, कभी दिल मुझ से लड़ता है!!

Mohabbat hai Ki nafrat hai, koi itna to samjhaen, Kabhi main Dil se ladti hun, kabhi Dil mujhse lagta hai!!

कुछ इस अदा से निभाना है किरदार मेरा मुझको, जिन्हें मुहब्बत न हो मुझसे वो नफ़रत भी न कर सकें!!

Kuchh is Aadhar se nibhaanaa hai kirdar mera mujhko, Jinhen Mohabbat Na Ho mujhse ve nafrat Na kar sake!!

Nafrat Shayari

ज़रूरत है मुझे नये नफ़रत करनें वालों की, पुराने वालें तो अब मुझे चाहनें लगे है!!

Jarurat hai mujhe naye nafrat karne walon ki, Purane wale to ab mujhe chahane Lage Hain!!

मोहब्ब्त करने से फ़ुरसत नहीं मिली दोस्तो, वर्ना हम करके बताते नफ़रत किसको कहते हैं!!

Mohabbat karne se fursat nahin Mili doston, Varna ham karke batate nafrat kisko kahate Hain!!

नफ़रत करना भी सब के बस की बात नहीं, इसके लिए दिल जलाना पड़ता है!!

Nafrat karna bhi sabke bus Ki baat nahin, Iske liye dil jalana padta hai!!

तेरी मोहब्ब्त में वह दम नहीं जो मुझे अपना सकें, अगर मुझसे कुछ करना है तो नफ़रत करों!!

Teri Mohabbat mein vah dam nahin Jo mujhe apna sake, Agar mujhse kuchh karna hai to nafrat karo!!

Nafrat Shayari In Hindi

Nafrat Shayari

हमें बर्बाद करना है तो हमसे प्यार करों, नफ़रत करोंगे तो ख़ुद बर्बाद हो जाओगे!!

Hamen barbad karna hai to humse Pyar Karo, Nafrat karoge to khud barbad Ho jaaoge!!

दिल का दर्द युं लफ़्ज़ों में बयां करतें ही नहीं, तेरी तसवीर आंखों से ना बह जाए इसलिए रोते ही नहीं, तेरे इश्क़ का जुनुं छाया है इस क़दर, ज़िन्दा हैं ईसी गुमान में वर्ना हम होते ही नहीं!!

Dil Ka Dard Yun lafzon mein bayan karte hi nahin, Teri tasvir aankhon se Na Bah jaaye isiliye rote hi nahin, Tere Ishq Ka junoon Chhaya hai is kadar, Zinda hai ISI guman mein Varna ham to hi nahin!!

ए मत कहना की तेरी याद से रिश्ता नहीं रखा, मैं ख़ुद तन्हां रहा दिल को मगर तन्हां नहीं रखा, तुम्हारी चाहतों के फूल तो महफूज़ राखे है, तुम्हारी नफरतों की पीठ को ज़िन्दा नहीं रखा!!

Yah mat kahana ki Teri yad se rishta nahin Rakha, Main khud tanha Raha Dil Ko Magar tanha nahin Rakha, Tumhari chahton ke phool to mahfuj rakhe hain, Tumhari nafraton ki peeth ko Jinda nahin Rakha!!

हमारी दुवा थी कि वो नफ़रत ख़त्म कर दें, उनकी दुवा थी की हम ए रिश्ता ही ख़त्म कर दें!!

Hamari dua thi ki ve nafrat khatm kar de, Unki dua thi ki ham rishta hi khatm kar den!!

Nafrat Shayari

चला जाऊंगा मैं धुंध के बादल की तरह, देखते रह जाओगे मुझे पागल की तरह, जब करते हो मुझसे इतनी नफ़रत तो क्यों, सजाते हो आंखों में मुझे काजल की तरह !!

Chala jaaun main dhundh ke Badal Ki tarah, Dekhte rah jao mujhe pagal Ki tarah, Jab karte ho mujhse itni nafrat to kyon, Sajate Ho aankhon mein mujhe Kajal Ki tarah!!

मोहब्ब्त के बदले नफ़रत मिलें तो कोइ ग़म नहीं, क्योंकि मोहब्ब्त को पाने के लिए यहां लोग भी कम नहीं!!

Mohabbat ke badle nafrat mile to koi gam nahin, Kyunki Mohabbat Ko pane ke liye yahan ham log bhi Kam nahin!!

नफ़रत ही सही पर वो तो ईमान्दारी से करों, या फ़िर प्यार के तरह ही करोंगे और छोड़ दोगे!!

Nafrat hi Sahi per hue to imandari se karo, Yaar FIR Pyar Ki tarah hi karoge aur chhod doge!!

तुम प्यार करते हो या नफ़रत करते हो कुछ समझ में नहीं आता, जो करना है पूरी करो अधूरा मत करना!!

Tum Pyar karte Ho ya nafrat karte ho kuchh samajh mein nahin aata, Jo karna hai Puri karo adhura mat karna!!

Dard Nafrat Shayari

Nafrat Shayari

मेरी वफ़ा के क़ाबिल नही हो तुम, प्यार मिलें एसे इन्सान नही हो तुम, दिल क्या तुम पर एतबार करेगा, प्यार मे धोखा दिया एसे बेवफ़ा हो तुम!!

Meri Wafa ke kabil nahin Ho Tum, Pyar Mile aise Insan nahin Ho Tum, Dil kya tum per etbar Karega, Pyar mein Dhokha Diya aise bewafa Ho Tum!!

जब आप किसी से रूठ कर नफ़रत से बात करो, और फ़िर भी वो उसका ज़वाब मोहब्ब्त से दे, तो समझ जाना की वो आपको ख़ुद से ज़्यादा प्यार करता है!!

Jab aap Kisi se Ruth kar nafrat se baat karo, Aur fir bhi vo uska jawab Mohabbat se de, Tu Sambhal Jana Ki ve aapko khud se jyada Pyar Karta hai!!

जो हुकुम करता है, वो इल्तज़ा भी करता है, आसमां कहीं झुका भी करता है, और तू बेवफ़ा है तो ये ख़बर भी सुन लें, इन्तेज़ार मेरा कोइ वहां भी करता है!!

Jo Hukum karta hai ve, eltza bhi karta hai, Aasman kahin jhuka bhi karta hai, Aur tu bewafa hai tu yah khabar bhi Sun le, Intezar Mera koi vahan bhi karta hai!!

अगर मेरी उल्फतों से तंग आ जाओ तो बता देना दोस्तों, मुझे नफ़रत तो गवारा है मगर दिखावे की मुहब्बत नहीं!!

Agar meri ulfaton se tang aa jao to Bata Dena doston, Mujhe nafraton kab a Raha hai Magar dikhave Ki Mohabbat nahin!!

Nafrat Shayari

नफ़रत चान्द की सितारों से हो तो वो अपनी चान्दनी रोशनी कम कर देता है, हम चान्द तो नहीं पर अपनी सांसे हम भी कम कर सकते हैं!!

Nafrat Chand ki sitaron se ho to ve apni Chandni Roshani kam kar deta hai, Ham Chand to nahin per apni saanse ham bhi kam kar sakte hain!!

उसको पाने के लिए मैं बहोत सी हदें पार कर बैठा, एक रिश्ते को जोड़ने के लिए कई रिश्तों को दूर कर बैठा, उसकी मोहब्ब्त पाने के लिए ख़ुद से ही नफ़रत कर बैठा!!

Aapko pane ke liye main bahut si had a paar kar baitha, Ek rishta ko jodne ke liye Kai rishto ko dur kar baitha, Uski Mohabbat pane ke liye khud se hi nafrat kar baitha!!

मुझे अपनी ज़िन्दगी से बेपनाह मोहब्बत थी फ़िर मैं किसी से प्यार कर बैठा, उस दिन से अपनी ज़िन्दगी से नफ़रत हो गईं है!!

Mujhe apni jindagi se bepanah Mohabbat thi FIR main Kisi se Pyar kar baitha, Use din se apni jindagi se nafrat ho gai hai!!

न जानें किस गलतफहमी में मुझसे नफ़रत करती है वो, आख़री मेरा कसूर तो बताएं!!

Na jaane kis galatfahmi mein mujhse nafrat karti hai ve, Aakhir Mera Kasoor to bataen!!

Mohabbat Nafrat Shayari

Nafrat Shayari

नफ़रत भी प्यार की बुनियाद होती है, मुलकत से अच्छी किसी की याद होती है, रिश्तों में फ़सलो का वजूद नहीं होता, क्यूकी दिल की दुनिया तो ख्यालों से अबाद होती है!!

Nafrat bhi Pyar Ki buniyad hoti hai, Mulakat se acchi Kisi Ki yad hoti hai, Rishto mein faslon ka vajud nahin hota, Kyunki Dil Ki duniya to khayalon se Abad hoti hai!!

आज़ अचानक तेरी याद ने मुझे रुला दिया, क्या करूं तुमने जो मुझे भुला दिया, ना करती वफ़ा ना मिलती ये सज़ा, शायद मेरी वफ़ा ने ही तुझे बेवफ़ा बना दिया!!

Aaj Achanak Teri yad ne mujhe rula Diya, Kya Karun tumne Jo mujhe bhula Diya, Na Karti Wafa Na milati ye Saja Shayad meri Wafa nahin tujhe bewafa banaa Diya!!

मुझसे नफ़रत की अजीब राह निकाली उसने, हस्ता बस्ता दिल कर दिया खली उसने, मेरे घर की रिवायत से वह ख़ूब वाक़िफ था, जुदाई मांग ली बनके सावली उसने!!

Mujhse nafrat Ki ajab rah nikali usne, Hansta basta dil kar diya Khali usne, Mere Ghar ke rewayat se wah khub wakif tha, Judaai mang Li ban ke sawali usne!!

मुझे शिकवा मेरे नफ़रत करनेवालों से नहीं है, शिकवा तो मुझे मुझसे झूठी मोहब्ब्त करनेवालों से है!!

Mujhe shikva mere nafrat karne walon se nahin, Shikva to mujhe mujhse jhuthi Mohabbat karne walon se hai!!

Nafrat Shayari

हो ग़र इबादत कोइ तो सिर झुका लेना चाहिए, रूठा हो कोइ अपना ग़र तो मना लेना चाहिए, नफ़रत की आंधियां चलती रहती है हर पल यहां रिश्तों के चिराग़ों को हवाओं से बचा लेना चाहिए!!

Ho gar ibadat koi to sir jhuka Lena chahie, Rutha Ho koi apna Gar to Mana Lena chahie, Nafrat Ki aandhiyan chalti rahti hai har pal yahan, Rishto ke chiragon ko hawaon se bacha Lena chahie!!

जो हमारी नफ़रत के भी लायक नहीं थे, हम उन्ही से बेशुमार प्यार कर बैठे!!

Jo hamari nafrat ke bhi layak nahin the, Ham unhin se beshumar Pyar kar baithe!!

जो हमारी नहीं नफ़रत हम उनसे क्यों करें, जो हमारी है उनसे तो प्यार कर लूं!!

Jo hamari nahin nafrat ham unse kyon Karen, Jo hamari hai unse to Pyar kar Lo!!

उस पगली से मैं प्यार करूं या नफ़रत करूं, कुछ समझ में नहीं आता मेरे दोस्त, अब तुम ही बताओ मैं क्या करूं, कुछ समझ में नहीं आता मेरे दोस्त!!

Use pagali se main Pyar Karun ya nafrat karo, Kuchh samajh mein nahin aata mere dost, Ab Tum hi batao main kya Karun, Kuchh samajh mein nahin aata mere dost!!

Nafrat Shayari For Boyfriend

Nafrat Shayari

उड़ रहा था मेरा दिल भी परिंदों की तरह, तीर जब लग गई तो कोइ भी मरहम ना हुआ, देख लेना था मुझे भी हर सितम की अदा, ए सनम तेरे जैसा मेरा कोइ दुश्मन ना हुआ!!

Ud raha tha mera dil bhi parindon Ki tarah, Teer jab lag gai to koi bhi marham Na hua, Dekh lena tha mujhe bhi har Sitam Ki Ada, A Sanam tere jaisa Mera koi Dushman Na hua!!

वो इन्कार करते हैं इकरार के लिए, नफ़रत भी करते हैं तो प्यार के लिए, उलटी चाल चलते हैं ये इश्क़ करनेंवालें, आंखें बन्द करतें हैं दीदार के लिए!!

Ve Inkar karte hain ikrar ke liye, Nafrat bhi karte Hain to Pyar ke liye, Ulti chaal chalte Hain ye Ishq karneWale, Aankhen band karte Hain Didar ke liye!!

तू तो हंस हंस कर जी रही है, जुदा होकर भी, कैसे जी पाया होगा वो, जिसने तेरे सिवा ज़िन्दगी कभी सोची ही नहीं!!

Tu to hans hans kar ji rahi hai, judaa hokar bhi, Kaise ji Paya hoga ve, Jisne tere Siva jindagi kabhi sochi hi nahin!!

मेरे नाम से इतनी नफ़रत करतें हैं वो, नफ़रत के बहाने ही सही मेरा नाम तो लेते हैं वो!!

Mere Naam se itni nafrat karte Hain ve, Nafrat ke bahane hi Sahi mera naam to lete hain Ve!!

Nafrat Shayari

शिकायत हां भरपूर कर, आ जो गलतफहमी है दूर कर, कभी प्यार कभी ग़ुस्सा कभी नफ़रत, मोहतरमा पहले तू किसी एक को चूज कर!!

Shikayat han bharpur kar, aa Jo galatfahmi hai dur kar, Kabhi Pyar kabhi gussa kabhi nafrat, mohtarma pahle tu kisi ek Ko chuj kar!!

उसकी बेवफ़ाई देख कर रहते हैं बेचैन, उससे नफ़रत ना कर बैठें इस बात से रहते हैं बेचैन!!

Uski bewafai dekhkar rahte hain Bechain, Usse nafrat Na kar baithe is baat se rahte hain Bechain!!

उसकी नाम सुनकर ख़ुशी का ठिकाना न रहा, जिस दिन से वो बेवफ़ा हुईं है, उस नाम से मुझे नफ़रत सी हो गईं है!!

Uski Naam sunkar Khushi Ka thikana Na Raha, Jis din se ve bewafa Hui hai, Use Naam se mujhe nafrat si ho gai hai!!

वह मुझे नफ़रत से देखती है तो क्या हुआ, पर मुझे उसे देख कर तो चैन आता है!!

Vah mujhe nafrat se dekhti hai to kya hua, Per mujhe use dekh kar to chain aata hai!!


निष्कर्ष
हमें उम्मीद है कि आपको यह Dard Nafrat Shayari पसंद आई होगी अगर आपको यह Mohabbat Nafrat Shayari पसंद आए तो कृपया इन शायरी को अपने दोस्तों या रिश्तेदारों के साथ शेयर करें। अगर आपकी कोई राय है या पोस्ट से जुड़ी कोई जानकारी हमारे साथ शेयर करना चाहते हैं तो कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट करें।
और नया पुराने