Maut Shayari | मौत शायरी हिंदी भाषा में

मृत्यु जीवन में एक स्थिर है। जबकि बदलना और भागना एक स्वाभाविक प्रवृत्ति है, मृत्यु से कोई नहीं बच सकता। यह प्रकृति का नियम है जिसे कोई नहीं बदल सकता। जबकि मनुष्य को मृत्यु से बचने की अनुमति नहीं है। और इस पल को कैद करने और हमारी वास्तविकता के दर्द, दुख और क्रोध को महसूस करने से बेहतर कवि क्या कर सकता है? इसलिए अनेक कवियों ने मृत्यु वचनों पर एक से एक शायरी लिखी है। आज हम आप सबके लिए हैं maut shayari (maut shayari in hindi, maut ki shayari, dard maut shayari, mujhe maut chahiye shayari, maut shayari 2 lines, maut shayari hindi, maut shayari urdu, maut shayari in english, maut wali shayari) पेश करने जा रहे हैं।

Maut Shayari

Maut Shayari

जिसकी याद में सारे जहां को भूल गय, सुना है आजकल वो हमारा नाम तक भूल गय, कसम खाई थी जिसने साथ निभाने की यारो, आज वो हमारी लाश पर आना भूल गय!!

jiski yaad men saare jahaan ko bhul gaye, sunaa hai aajakal vo hamaaraa naam tak bhul gaye, kasam khaai thi jisne saath nibhaane ki yaaro, aaj vo hamaari laash par aanaa bhul gaye!!

जब लाश से उसका दिल नही मिला पता; लग गया किसी आशिक का क़त्ल हुआ है!!

jab laash se uskaa dil nahi milaa pataa; lag gayaa kisi aashik kaa katl huaa hai!!

क्या कहूं तुझे ख़्वाब कहूं तो टूट जायेगा, दिल कहूं, तो बिखर जायेगा, आ तेरा नाम ज़िन्दगी रख दूं, मौत से पहले तो तेरा साथ छूट ना पायेगा!!

kyaa kahun tujhe khvaab kahun to tut jaayegaa, dil kahun, to bikhar jaayegaa, aa teraa naam jindgi rakh dun, maut se pahle to teraa saath chhut n paayegaa!!

न जानें किस गुनाह की सजा दे दी, उसे लिखकर किसी ओर के नसीब में, मेरे ख़ुदा ने ही मुझे मौत दे दी!!

n jaane kis gunaah ki sajaa de di, use likhakar kisi or ke nasib men, mere khudaa ne hi mujhe maut de di!!

Maut Shayari

सैकड़ों ग़म के बादल हमें अभी उठाने है, उनके हर बार के खंजर अभी आजमाने है, इस तरह नहीं मरेंगे हम मेरे अजीजों, दम निकलने के भी तो हजारों बहानें हैं!!

saikdon gam ke baadal hamen abhi uthaane hai, unke har baar ke khanjar abhi aajmaane hai, es tarah nahin marenge ham mere ajijon, dam nikalne ke bhi to hajaaro bahaane hai!!

ख़बर सुनकर मरने की वो बोले रक़ीबों से, ख़ुदा बख्शे बहुत-सी खूबियां थीं मरने वाले में!!

khabar sunakar marne ki vo bole rakibon se, khudaa bakhshe bahut-si khubiyaan thin marne vaale men!!

कोइ नहीं आएगा मेरी ज़िदंगी में तुम्हारे सिवा, बस एक मौत ही है जिसका मैं वादा नहीं करता!!

koi nahin aaagaa meri jidangi men tumhaare sivaa, bas ek maut hi hai jiskaa main vaadaa nahin kartaa!!

वफ़ा सीखनी है तो मौत से सीखो, जो एक बार अपना बना ले फ़िर किसी का होने नहीं देती!!

vfaa sikhni hai to maut se sikho, jo ek baar apnaa banaa le phir kisi kaa hone nahin deti!!

 Maut Shayari In Hindi

Maut Shayari In Hindi

चूम कर कफ़न में लपटे मेरे चेहरे को, उसने तड़प के कहा, नय कपड़े क्या पहन लिए, हमें देखते भी नहीं!!

chum kar kaphan men lapte mere chehre ko, usne tadap ke kahaa, naye kapade kyaa pahan lia, hamen dekhte bhi nahin!!

कमाल है ना जानें ए कैसा उनका प्यार का वादा है, चन्द लम्हें की ज़िन्दगी और नखरे मौत से भी ज़्यादा हैं!!

kamaal hai n jaane ye kaisaa unkaa pyaar kaa vaadaa hai, chand lamhe ki jindgi aur nakhre maut se bhi jyaadaa hain!!

एक तुम हो जिसे प्यार भी याद नहीं, एक में हूं जिसे और कुछ याद नहीं, ज़िन्दगी मौत के दो ही तो तराने हैं, एक तुम्हें याद नहीं इक मुझे याद नहीं!!

ek tum ho jise pyaar bhi yaad nahin, ek men hun jise aur kuchh yaad nahin, jindgi maut ke do hi to taraane hain, ek tumhen yaad nahin ek mujhe yaad nahin!!

मौत तेरा डर नहीं मुझको, क्योंकि मारा है जीते जी अपनो ने मुझको!!

maut teraa dar nahin mujhko, kyonki maaraa hai jite ji apno ne mujhko!!

Maut Shayari In Hindi

मैं अब सुपुर्देखाक हूं मुझको जलाना छोड़ दे, क़ब्र पर मेरी तू उसके साथ आना छोड़ दे, हो सकें गर तू ख़ुशी से अश्क पीना सीख लें, या तू आंखों में अपनी काजल लगाना छोड़ दे!!

main ab supurde khaak hun mujhko jalaanaa chhod de, kabr par meri tu uske saath aanaa chhod de, ho sake gar tu khushi se ashk pinaa sikh le, yaa tu aankhon men apni kaajal lagaanaa chhod de!!

मर कर भी तड़पती हूं तेरे इन्तजार में, आग लग गईं है इस दिले बेक़रार में, मिल्ने में क्या मज़ा है जो है इन्तज़ार में, दर्द उभरता है क़दम रखते ही प्यार में!!

mar kar bhi tdapti hun tere entjaar men, aag lag gayi hai es dile bekraar men, milne men kyaa majaa hai jo hai entjaar men, dard ubhartaa hai kadam rakhte hi pyaar men!!

ज़िन्दगी ज़ख्मों से भरी है वक्त को मरहम बनाना सीख लो, हारना तो है एक दिन मौत से फ़िलहाल ज़िन्दगी जीना सीख लो!!

jindgi jakhmo se bhari hai vakt ko maraham banaanaa sikh lo, haarnaa to hai ek din maut se philhaal jindgi jinaa sikh lo!!

सुलगती ज़िन्दगी से मौत आ जाये तो बेहतर है, अब हमसे दिल के अरमानों का मातम नही होता!!

sulagti jindgi se maut aa jaaye to behatar hai, ab hamse dil ke armaanon kaa maatam nahi hotaa!!

Maut Ki Shayari

Maut Shayari

इतनी शिद्दत से चाहा उसे की ख़ुद को भी भुला दिया, उनके लिए अपने दिल को कितनी ही बार रुला दिया, एक बार ही ठुकराया उन्होंने, और हमनें ख़ुद को मौत की नीन्द सुला दिया!!

etni shiddat se chaahaa use ki khud ko bhi bhulaa diyaa, unke lia apne dil ko kitni hi baar rulaa diyaa, ek baar hi thukraayaa unhonne, aur hamne khud ko maut ki nind sulaa diyaa!!

मौत एक सच्चाई है उसमे कोइ ऐब नहीं है, क्या लेके जाओगे यारों कफ़न में कोइ जेब नहीं होती!!

maut ek sachchaai hai usme koi aib nahin hai, kyaa leke jaaoge yaaro kfan men koi jeb nahin hoti!!

मिली है बेवफ़ाई जब से, ना मैंने दिल फ़िर लगाये, तुम्हारी दोस्ती से बेहतर, मुझे मौत ही आ जाये!!

mili hai bevfaai jab se, naa maine dil phir lagaaye, tumhaari dosti se behatar, mujhe maut hi aa jaaye!!

तू बदनाम न हो इसलिए जी रहा हूं मैं, वर्ना मरने का इरादा तो रोज़ होता है!!

tu badnaam naa ho esalia ji rahaa hun main, varnaa marne kaa eraadaa to roj hotaa hai!!

Maut Shayari

क्या पता कब मौत का पैगाम आ जाये, ज़िन्दगी की आख़री कब शाम हो जाये, मैं तो ढूंढता हूं ऐस मौके को ए दोस्त, की मेरी ज़िन्दगी भी किसी के काम आ जाये!!

kyaa pataa kab maut kaa paigaam aa jaaye, jindgi ki aakhiri kab shaam ho jaaye, main to dhundhtaa hun aise mauke ko ai dost, ki meri jindgi bhi kisi ke kaam aa jaaye!!

किससे महरूम-ए-क़िस्मत की शिकायतें कीजे, हमनें चाहा था कि मर जायें सो वो भी नहीं हुआ!!

kisse mahrum-aye-kismat ki shikaayat kije, hamne chaahaa thaa ki mar jaayen so vo bhi nahin huaa!!

उसको छूना जुर्म है तो मेरी सजा-ए-मौत का इंतेजम करों, मेरे दिल की ज़िद है की आज़ उसे सीने से लगा लू!!

usko chhunaa jurm hai to meri sajaa-aye-maut kaa entjaam karo, mere dil ki jid hai ki aaj use sine se lagaa lu!!

जनाजा रोक कर मेरा, वो इस अन्दाज़ से बोलें, गली हमनें कहीं थी, तुम तो दुनिया छोड़े जातें हो!!

janaajaa rok kar meraa, vo es andaaj se bole, gali hamne kahi thi, tum to duniyaa chhode jaate ho!!

Dard Maut Shayari

Maut Shayari

मेरे चहरे से कफ़न हटा कर जरा दीदार तो कर लो, ये बेवफ़ा बन्द हो गईं है वो आंखें जिन्हें तुम रुलाया करतें थे!!

mere chahre se kfan hataa kar jaraa didaar to kar lo, ai bevphaa band ho gayi hai vo aankhe jinhe tum rulaayaa karte the!!

ये मौत आ कर हमको ख़ामोश तो कर गईं तू, मगर सदियों दिलों के अन्दर हम गूंजते रहेंगे!!

ai maut aa kar hamko khaamosh to kar gayi tu, magar sadiyon dilon ke andar ham gunjte rahenge!!

उन दो पंक्तियों में मैंने अपनी पूरी कहानी लिख दी, मौत बड़ी पास से गुजरी, ज़िन्दगी ने होंठों पर झूठी मुस्कुराहट रख दी!!

un do panktiyon men mainne apni puri kahaani likh di, maut badi paas se gujri, jindgi ne honthon par jhuthi muskuraahat rakh di!!

वादे भी उसने क्या ख़ूब निभाएं हैं, ज़ख्म और दर्द तोहफ़े में भिजवाएं हैं, इस से बढ़कर वफ़ा कि मिसाल क्या होगी, मौत से पहले कफ़न का सामान ले आये हैं!!

vaade bhi usne kyaa khub nibhaaa hain, jkhm aur dard tohphe men bhijvaaa hain, es se bdhakar vfaa ki misaal kyaa hogi, maut se pahle kfan kaa saamaan le aaye hain!!

Maut Shayari

मेरे बाद किधर जाएगी मेरी तनहाई, मैं जो मरा तो मर जाएगी मेरी तनहाई, जब मैं रो-रो कर दरिया बन जाऊंगा सनम, उस दिन यार उतर जाएगी मेरी तनहाई!!

mere baad kidhar jaaagi meri tanhaai, main jo maraa to mar jaaagi meri tanhaai, jab main ro-ro kar dariyaa ban jaaungaa sanam, us din yaar utar jaaagi meri tanhaai!!

मिल जायेंगें कुछ हमारी भी तारीफ़ करनें वालें, कोइ हमारी मौत की अफ़वाह तो उड़ाओ यारों!!

mil jaaange kuchh hamaari bhi taarif karne vaale, koi hamaari maut ki aphvaah to udaao yaaron!!

कितना दर्द है दिल में दिखाया नहीं जाता, किसी की बर्बादी का क़िस्सा सुनाया नहीं जाता, एक बार जी भर के देख लो इस चहरे को, क्यूंकि बार बार कफ़न उठाया नहीं जाता!!

kitnaa dard hai dil men dikhaayaa nahin jaataa, kisi ki barbaadi kaa kissaa sunaayaa nahin jaataa, ek baar ji bhar ke dekh lo es chahre ko, kyunki baar baar kfan uthaayaa nahin jaataa!!

मोहब्ब्त के नाम पे दीवानें चलें आतें हैं, शमा के पीछे परवाने चलें आतें हैं, तुम्हें याद ना आये तो चलें आना मेरी मौत पर, उस दिन तो बेगाने भी चलें आतें हैं!!

mohabbat ke naam pe divaane chale aate hain, shamaa ke pichhe parvaane chale aate hain, tumhen yaad n aaye to chale aanaa meri maut par, us din to begaane bhi chale aate hain!!

Maut Shayari 2 Lines

Maut Shayari

मौत मांगते है तो ज़िन्दगी खफा हो जाती है, ज़हर लेते है तो वो भी दवा हो जाती है, तु बता ए ज़िन्दगी तेरा क्या करू, जिसको भी चाहा वो बेवफ़ा हो जाती है!!

maut maangte hai to jindgi khaphaa ho jaati hai, jahar lete hai to vo bhi davaa ho jaati hai, tu bataa ai jindgi teraa kyaa karu, jisko bhi chaahaa vo bevphaa ho jaati hai!!

मैंने ख़ुदा से एक दुवा मांगी, दुवा में अपनी मौत मांगी, ख़ुदा ने कहा मौत तो तुझे दे दूं, पर उसका क्या जिसने हर दुवा में तेरी ज़िन्दगी मांगी!!

mainne khudaa se ek duaa maangi, duaa men apni maut maangi, khudaa ne kahaa maut to tujhe de dun, par uskaa kyaa jisne har duaa men teri jindgi maangi!!

यह भी पढ़ें

न मिलने कि ख़ुशी, न खोने का ग़म, ज़िन्दगी ने हमें यूं संवारा, अब मौत से डरते नहीं हम!!

naa milne ki khushi, naa khone kaa gam, jindgi ne hamen yun sanvaaraa, ab maut se darte nahin ham!!

कितना और दर्द देगा बस इतना बता दें, एसा कर ये ख़ुदा मेरी हस्ती मिटा दें, यूं घुट घुट के जीने से तो मौत बेहतर है, मैं कभी ना जागूं मुझे एसी नीन्द सुला दें!!

kitnaa aur dard degaa bas etnaa bataa de, aisaa kar ai khudaa meri hasti mitaa de, yun ghut ghut ke jine se to maut behatar hai, main kabhi n jaagun mujhe aisi nind sulaa de!!

Maut Shayari

मेरी अर्थी पर डाल देना अपना लाल दुपट्टा कफ़न समझ कर, आराम से सो सकूंगा क़ब्र में मैं, अपनें हाथ में तेरा दामन समझ कर!!

meri arthi par daal denaa apnaa laal dupattaa kfan samajh kar, aaraam se so sakungaa kabr men main, apne haath men teraa daaman samajh kar!!

किसी कहने वालें ने भी क्या ख़ूब कहा है कि, मेरी ज़िन्दगी इतनी प्यारी नहीं की मैं मौत से डरूं!!

kisi kahne vaale ne bhi kyaa khub kahaa hai ki, meri jindgi etni pyaari nahin ki main maut se darun!!

जब तेरी नजरों से दूर हो जायेंगें हम, दूर फिज़ाओं में कहीं खो जायेंगें हम, मेरी यादों से लिपट कर रोने आओगे तुम, जब ज़मीन को ओढ़ कर सो जायेंगे हम!!

jab teri najron se dur ho jaayenge ham, dur phijaaon men kahin kho jaayenge ham, meri yaadon se lipat kar rone aaoge tum, jab jamin ko odh kar so jaayenge ham!!

ना उढाओ ठोकरों में मेरी खाके-कब्र ज़ालिम, यही एक रह गयी है मेरे प्यार की निशानी!!

n udhaao thokron men meri khaake-kabr jaalim, yehi ek rah gayi hai mere pyaar ki nishaani!!

निष्कर्ष
हमें उम्मीद है कि आपको maut shayari in hindi के बारे में हमारी शायरी पसंद आई होगी। हमें यकीन है कि आप में से कई लोगों के पास इस विषय के बारे में प्रश्न हैं, और आप में से अधिकांश के पास इसके बारे में एक मजबूत राय है। हमें लगता है कि मृत्यु इतना बड़ा विषय है और इतना ध्रुवीकरण है कि हम मृत्यु के बारे में अपनी शायरी को यथासंभव तटस्थ रखने की कोशिश करते हैं। हमें उम्मीद है कि यह शायरी किसी तरह मदद करेगी! यदि आप अधिक पढ़ना चाहते हैं तो, आप हमारी वेबसाइट stepupstopviolence.org पर जा सकते हैं। पढ़ने के लिए धन्यवाद, हम आपसे सुनना पसंद करेंगे!
और नया पुराने