Maa Shayari | माँ के लिए प्यारी सी शायरी

Maa Shayari | Maa Ke Liye Shayari | Maa Baap Emotional Shayari | Maa Shayari In Hindi | Maa Baap Shayari | Maa Par Shayari | Maa Papa Shayari | Maa Ki Shayari | Maa Ke Upar Shayari | Maa Pe Shayari

जिस क्षण एक बच्चा पैदा होता है, वह तुरंत दुनिया का हिस्सा बन जाता है और अपने आसपास के जीवन से परिचित हो जाता है। माताएँ बच्चे की दुनिया का केंद्र होती हैं, और बच्चे के जीवन में सबसे महत्वपूर्ण व्यक्ति होती हैं। माताएं पहली व्यक्ति हैं जो हमें जीवन का महत्व सिखाती हैं और हमें वह व्यक्ति बनने में मदद करती हैं जो हम आज हैं। एक माँ का प्यार निस्वार्थ होता है। मां दुनिया के बाकी सभी लोगों से अलग है और वह अकेली ऐसी शख्सियत है जो हमेशा हमारे साथ रहती है। इस दुनिया में हर दिन हमारी मां की वजह से एक खूबसूरत दिन होता है।


मां के लिए छोटी सी Maa Shayari 


Maa Shayari

मुझे माफ़ कर मेरे या खुदा
झुक कर करू तेरा सजदा
तुझसे भी पहले माँ मेरे लिए
ना कर कभी मुझे माँ से जुदा!!
mujhe maaf kar mere yaa khudaa
jhuk kar karu teraa sajdaa
tujhse bhi pahle maa mere lia
naa kar kabhi mujhe maan se judaa!!


सर पर जो हाथ फेरे तो हिम्मत मिल जाये,
माँ एक बार मुस्कुरा दे तो जन्नत मिल जाये!!
sar par jo haath phere to himmat mil jaaye,
maa ek baar muskuraa de to jannat mil jaaye!!


माँग लूँ ये मन्नत की फिर यही जहाँ मिले
फिर वही गॉड फिर वही माँ मिले!!
maang lun ye mannat ki phir yahi jahaan mile
phir vahi gad phir vahi maa mile!!


जिस के होने से मैं खुद को मुक्कम्मल मानता हूँ, 
मेरे रब के बाद मैं बस अपने माँ-बाप को जानता हूँ!!
jis ke hone se main khud ko mukkammal maantaa hun, 
mere rab ke baad main bas apne maa-baap ko jaantaa hun!!

Maa Shayari

थके होते हुए थककर सोते नहीं देखा,
पिताजी को मैंने कभी रोते नहीं देखा!!
thake hote hua thakakar sote nahin dekhaa,
pitaaji ko mainne kabhi rote nahin dekhaa!!


क्या सही है क्या गलत वो हमेशा मुझे समझाती है,
मैं खाना नहीं खाता तो वो भी कहां कुछ खाती है,
और अपने बच्चो के लिए कुछ पैसे बचा लूँ,
ये सोचकर मां घर पैदल चली आती है!!
kyaa sahi hai kyaa galat vo hameshaa mujhe samjhaati hai,
main khaanaa nahin khaataa to vo bhi kahaan kuchh khaati hai,
aur apne bachcho ke lia kuchh paise bachaa lun,
ye sochakar maa ghar paidal chali aati hai!!


मेरी तक़दीर में कभी कोई गम नही होता,
अगर तक़दीर लिखने का हक़ मेरी माँ को होता!!
meri tkdir men kabhi koi gam nahi hotaa,
agar tkdir likhne kaa hk meri maa ko hotaa!!


चीख़ती है चिल्लाती भी है,
रोती भी है बिलखती भी है,
जब मेरी माँ ग़ुस्सा हो जाती है,
तो अपनी आँखों में आँसू लिए चुप-चाप सो जाती है!!
chikhti hai chillaati bhi hai,
roti bhi hai bilakhti bhi hai,
jab meri maa gussaa ho jaati hai,
to apni aankhon men aansu lia chup-chaap so jaati hai!!


Maa Shayari

जिसके होने से मैं खुद को मुक्कम्मल मानता हूँ,
में खुदा से पहले मेरी माँ को जानता हूँ!!
jiske hone se main khud ko mukkammal maantaa hun,
men khudaa se pahle meri maa ko jaantaa hun!!


सीधा साधा भोला भाला मैं ही सब से सच्चा हूँ,
कितना भी हो जाऊं बड़ा माँ आज भी तेरा बच्चा हूँ!!
sidhaa saadhaa bholaa bhaalaa main hi sab se sachchaa hun,
kitnaa bhi ho jaaun bdaa maa aaj bhi teraa bachchaa hun!!


सबकुछ मिल जाता है दुनिया में मगर
याद रखना की बस माँ-बाप नहीं मिलते
मुरझा कर जो गिर गए एक बार डाली से
ये ऐसे फूल हैं जो फिर नहीं खिलते!!
sabakuchh mil jaataa hai duniyaa men magar
yaad rakhnaa ki bas maa-baap nahin milte
murjhaa kar jo gir gaye ek baar daali se
ye aise phul hain jo phir nahin khilte!!


कौन सी है वो चीज़ जो यहाँ नहीं मिलती, 
सब कुछ मिल जाता है पर माँ नहीं मिलती!!
kaun si hai vo chij jo yahaan nahin milti, 
sab kuchh mil jaataa hai par maa nahin milti!!

Maa Shayari

चाहे लाख करो तुम पूजा और तीर्थ करो हजार, 
अगर माँ बाप को ठुकराया तो सब ही हैं बेकार!!
chaahe laakh karo tum pujaa aur tirth karo hajaar, 
agar maa baap ko thukraayaa to sab hi hain bekaar!!


घेर लेने को मुझे जब भी बलाएँ आ गईं, 
ढाल बन कर सामने माँ-बाप की दुआएँ आ गईं!!
gher lene ko mujhe jab bhi balaaan aa gin, 
dhaal ban kar saamne maa-baap ki duaaan aa gin!!


माँ की अजमत से अच्छा जाम क्या होगा,
माँ की खिदमत से अच्छा काम क्या होगा,
खुदा ने रख दी हो जिस के कदमों में जन्नत,
सोचो उसके सर का मुकाम क्या होगा!!
maa ki ajamat se achchhaa jaam kyaa hogaa,
maa ki khidamat se achchhaa kaam kyaa hogaa,
khudaa ne rakh di ho jis ke kadmon men jannat,
socho uske sar kaa mukaam kyaa hogaa!!


जिस एक लफ्ज़ से है मेरी दुनिया सारी,
मुझे मेरा वो जहाँ फिर लौटा दे,
चाहे तो मेरी जिंदगी लेले ऐ खुदा,
बस मुझे मेरी प्यारी माँ लौटा दे!!
jis ek laphj se hai meri duniyaa saari,
mujhe meraa vo jahaan phir lautaa de,
chaahe to meri jindgi lele ai khudaa,
bas mujhe meri pyaari maa lautaa de!!


Maa Shayari

यूँ तो मैंने बुलन्दियों के हर निशान को छुआ,
जब माँ ने गोद में उठाया तो आसमान को छुआ!!
yun to mainne bulandiyon ke har nishaan ko chhuaa,
jab maa ne god men uthaayaa to aasmaan ko chhuaa!!


हर घड़ी दौलत कमाने में इस तरह मशरूफ रहा मैं,
पास बैठी अनमोल मां को भूल गया मैं!!
har ghadi daulat kamaane men es tarah mashruph rahaa main,
paas baithi anmol maa ko bhul gayaa main!!


बहुत बुरा हो फिर भी उसको बहुत भला कहती है
अपना गंदा बच्चा भी माँ दूध का धुला कहती है!!
bahut buraa ho phir bhi usko bahut bhalaa kahti hai
apnaa gandaa bachchaa bhi maa dudh kaa dhulaa kahti hai!!


टुकड़ों में बिखरा हुआ किसी का जिगर दिखाएँगे, 
कभी आना भूखे सोए बच्चों के माँ बाप से मिलाएँगे!!
tukadon men bikhraa huaa kisi kaa jigar dikhaaange, 
kabhi aanaa bhukhe soa bachchon ke maa baap se milaaange!!

Maa Shayari

माता पिता के बिना दुनिया की हर चीज कोरी हैं, 
दुनिया का सबसे सुंदर संगीत माँ की लोरी हैं!!
maataa pitaa ke binaa duniyaa ki har chij kori hain, 
duniyaa kaa sabse sundar sangit maa ki lori hain!!


कोई दुआ असर नहीं करती,
जब तक वो हम पर नजर नहीं करती,
हम उसकी खबर रखे न रखे,
वो कभी हमें बेखबर नहीं करती!!
koi duaa asar nahin karti,
jab tak vo ham par najar nahin karti,
ham uski khabar rakhe n rakhe,
vo kabhi hamen bekhabar nahin karti!!


माँ की दुआ कभी खाली नहीं जाती,
माँ की बात कभी टाली नहीं जाती,
अपने सब बच्चे पाल लेती है बर्तन धोकर,
और बच्चों से एक माँ पाली नहीं जाती!!
maa ki duaa kabhi khaali nahin jaati,
maa ki baat kabhi taali nahin jaati,
apne sab bachche paal leti hai bartan dhokar,
aur bachchon se ek maa paali nahin jaati!!


बिना बताये ही वो हर बात जान जाती है,
वो माँ ही तो अपनी दोस्त बन जाती है,
गर हो कोई मुसीबत आये तो ढाल बन जाती है,
वो माँ ही जो दुआ बन जाती है!!
binaa bataaye hi vo har baat jaan jaati hai,
vo maa hi to apni dost ban jaati hai,
gar ho koi musibat aaye to dhaal ban jaati hai,
vo maa hi jo duaa ban jaati hai!!


Maa Shayari

उम्र भर खाली यूं ही मकान हमने रहने दिया,
तुम गए तो दूसरे को कभी यहां रहने ना दिया,
मैंने कल सब चाहतों की किताबे फाड़ दी,
सिर्फ एक कागज पर लिखा मां रहने दिया!!
umr bhar khaali yun hi makaan hamne rahne diyaa,
tum gaye to dusre ko kabhi yahaan rahne naa diyaa,
mainne kal sab chaahton ki kitaabe phaad di,
sirph ek kaagaj par likhaa maa rahne diyaa!!


ऐ अँधेरे देख मुँह तेरा काला हो गया,
माँ ने आँखें खोल दी घर में उजाला हो गया!!
ai andhere dekh munh teraa kaalaa ho gayaa,
maa ne aankhen khol di ghar men ujaalaa ho gayaa!!


नहीं हो सकता कद तेरा ऊँचा किसी भी माँ से ए खुदा
तू जिसे आदमी बनाता है, वो उसे इन्सान बनाती है!!
nahin ho saktaa kad teraa unchaa kisi bhi maa se aye khudaa
tu jise aadmi banaataa hai, vo use ensaan banaati hai!!


माँ बाप का दिल जीत लो कामयाब हो जाओगे,
वरना सारी दुनिया जीत कर भी हार जाओगे!!
maa baap kaa dil jit lo kaamyaab ho jaaoge,
varnaa saari duniyaa jit kar bhi haar jaaoge!!

Maa Shayari

यूं ही नहीं गूंजती किलकारियां‬ घर आँगन‬ के कोने में,
जान ‎हथेली‬ पर रखनी‪ पड़ती है "माँ" को "‪माँ‬" होने में!!
yun hi nahin gunjti kilkaariyaan‬ ghar aangan‬ ke kone men,
jaan ‎htheli‬ par rakhni‪ pdti hai "maa" ko "‪maa" hone men!!


घर आके माँ-बाप बहुत रोये अकेले में, 
मिट्टी के खिलौने भी सस्ते ना थे मेले में!!
ghar aake maa-baap bahut roye akele men, 
mitti ke khilaune bhi saste naa the mele men!!


मैं क्यों न लिखूं मेरी माँ पर जिसने मुझें लिखा हैं,
मैंने इस दुनिया में सबसे पहले माँ बोलना ही सीखा हैं!!
main kyon n likhun meri maa par jisne mujhen likhaa hain,
mainne es duniyaa men sabse pahle maa bolnaa hi sikhaa hain!!


कोई सरहद नहीं होती,
कोई गलियारा नहीं होता,
अगर मां की बीच होती,
तो बंटवारा नहीं होता!!
koi sarahad nahin hoti,
koi galiyaaraa nahin hotaa,
agar maa ki bich hoti,
to bantvaaraa nahin hotaa!!


Maa Shayari

भीड़ में भी सीने से लगा के दूध पिला देती है,
बच्चा अगर भूखा हो तो माँ शर्म को भुला देती है!!
bhid men bhi sine se lagaa ke dudh pilaa deti hai,
bachchaa agar bhukhaa ho to maa sharm ko bhulaa deti hai!!


वो डांट डांट कर खाना खिलाना याद आता है,
मेरे वास्ते तेरा पैसा बचाना याद आता है!!
vo daant daant kar khaanaa khilaanaa yaad aataa hai,
mere vaaste teraa paisaa bachaanaa yaad aataa hai!!


किसी को घर मिला हिस्से में या कोई दुकान आई
मैं घर में सबसे छोटा था मेरे हिस्से में माँ आई!!
kisi ko ghar milaa hisse men yaa koi dukaan aai
main ghar men sabse chhotaa thaa mere hisse men maa aai!!


ना ज़रूरत उसे पूजा और पाठ की, 
जिसने सेवा करी अपनी माँ-बाप की!!
naa jrurat use pujaa aur paath ki, 
jisne sevaa kari apni maa-baap ki!!

Maa Shayari

ना गिन के दिया, ना तोल के दिया,
मेरी माता-पिता ने जो भी दिया
दिल खोल के दिया!!
naa gin ke diyaa, naa tol ke diyaa,
meri maataa-pitaa ne jo bhi diyaa
dil khol ke diyaa!!


माँ तेरी याद सताती है मेरे पास आ जाओ,
थक गया हूँ मुझे अपने आँचल मे सुलाओ,
उंगलियाँ अपनी फेर कर बालो में मेरे,
एक बार फिर से बचपन कि लोरियां सुनाओ!!
maa teri yaad sataati hai mere paas aa jaao,
thak gayaa hun mujhe apne aanchal me sulaao,
ungaliyaan apni pher kar baalo men mere,
ek baar phir se bachapan ki loriyaan sunaao!!


हँसकर मेरा हर गम भुलाती है माँ,
मैं रोता हूँ तो सीने से लगाती है माँ,
बहुत दर्द दिया है इस ज़माने ने मुझको,
सबकुछ झेलकर जीना सिखाती है माँ!!
hnasakar meraa har gam bhulaati hai maa,
main rotaa hun to sine se lagaati hai maa,
bahut dard diyaa hai es jmaane ne mujhko,
sabakuchh jhelakar jinaa sikhaati hai maa!!


माँ तेरी करामात से है ज़िन्दगी मेरी,
माँ तेरी खिदमत में है ये बंदगी मेरी,
माँ तेरी हर दुआ में है फ़िक्र मेरी,
माँ तेरे कदमो में है ये जन्नत मेरी!!
maa teri karaamaat se hai jindgi meri,
maa teri khidamat men hai ye bandgi meri,
maa teri har duaa men hai fikr meri,
maa tere kadmo men hai ye jannat meri!!

Maa Shayari निष्कर्ष

हमें उम्मीद है कि Maa Shayari पर हमारी कविता का आनंद लिया। माताओं के रूप में, हम सभी जानते हैं कि वे हमारे जीवन के लिए कितने महत्वपूर्ण हैं। हमें उम्मीद है कि मां पर हमारे छोटे से लेख ने आपको इस बारे में थोड़ी जानकारी दी है कि वे हमारे लिए कितने महत्वपूर्ण हैं और उन्होंने हमारे लिए कितना कुछ किया है। माँ शायरी एक ऐसा मंच है जिस पर हम अपने पाठकों के साथ विभिन्न विषयों पर अपनी कविता और विचार साझा करते हैं। हमें उम्मीद है कि आप हमारी कविता का आनंद लेंगे और आप हमारे साथ और अधिक समय तक बने रहेंगे। यदि आप हमारे ब्लॉग और हमारी कविता के बारे में अधिक जानना चाहते हैं, तो कृपया stepupstopviolence.org पर जाएँ। पढ़ने के लिए धन्यवाद और हम आपको फिर से देखने की उम्मीद करते हैं!

एक टिप्पणी भेजें

Please do not enter any spam link in the comment box.

और नया पुराने